🙏🌷जगतजननी माँ🌷🙏

माँ,ममता,समता, ज्योति भी तुम,                            जीवन भी तुम,                            आधार भी तुम,                             साँस तुम,                                   संसार भी तुम,   🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

जीवन की चाह जीने की शक्ति तुम,                               भावनाओं की उद् गार हो तुम,                       शत् शत् नमन हे माँ,      🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

सपनीली सी आँखों का संसार हो तुम।।                                      माँ ,ममता ,समता, ज्योति भी तुम,                            ………सारा संसार हो तुम ।।       🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏                  🌺🌺🌺🌺🌺🌺

 

 

🌸कविता🌸

हर रोज की यही कहानी है,

मैं हूँ तुम हो और संगीत की धुन में बहता हुआ पानी है,
यही हर रोज की कहानी है,
सरपरस्त हवाओं के शोर की गुस्ताखीयाँ ,
आज इन फिजाओं को बतानी है।
यही हर रोज की कहानी है,
शायद सरजमीं में गुलिस्ता का हर एक गुल,
इन खुश्बूओं की निशानी है।
यही हर रोज की कहानी है।
   “स्मृति स्नेहा”