#Quotes

“घर का कोई ऐसा कोना नहीं है,

 जहाँ धूप का बिछौना नहीं है।।”

🌤️🌤️🌤️🌤️🌤️🌤️🌤️🌤️🌤️🌤️

“धूप देखकर ललचाता है     मन,

जाने कितनी बातें भी बनाता है मन,

हजार उदासीयों के बीच,

फिर से खिलखिलाता है मन।। “

🌤️🌤️🌤️🌤️🌤️🌤️🌤️🌤️🌤️

“बन्दिशें हैं रूआसी हसरतों   के माफिक,

 जाने क्यूँ सच से नजरें भी   चुराता है मन,

 अब तो हजारों सपनों को     इन पलकों में

 बसाता है मन।। “

www.smritisnehablogs.com

Snehablogs2017@wordpress.com

 

 

Spread the love

Published by

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *