सीने में दहक ,फिर भी आँखों में चमक लिए तुम आगे बढ़ना ,

पैरों में कांटें चुभे , तीक्ष्ण तीरों सी बाते सुनके भी तुम आगे बढ़ना ,

कभी तेज़ धूप से जलता हो तन मन ,

तुम आशाओं की छावं लिए बस चलते रहना ,

कभी गिरके सँभालने में वक़्त जो लगे ,

तुम खुद के दायरों को कभी सीमित न करना ,

आज इस अँधेरे का डर क्यूँ है तुम्हें ?तुम सिर्फ जुग्नूओं की रौशनी को चाँद के माफिक समझना ,

हौसला टूटे न कभी ये सोच लो तुम भी ,अपनी कोशिशों को कभी जाया न करना ,

आज मायूस क्यूँ हो तुम ?किसलिए दुश्वारियों का डर तुम्हें ?

मेहनत  के पुलिंदों और खुद पर विश्वास का मिलेगा प्रतिफल तुम्हें ,

सीने में दहक फिर भी आँखों में चमक लिए तुम आगे बढ़ना

 

Spread the love

Published by

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *